Tags

, , ,

 

होली है

चंग की थाप मृदंग मनोहर, बाँसुरिया धुन है मतवारी |

खेलत फाग सखा मिलिहीं सब, झूमत रंग गुलाल लगा री ||

नाचत मस्त धमाल मचावत, गावत सो मन आवत वांरी |

भेद नहीं बड छोटन के बिच, रंकन कोऊ न राव यहाँ री ||

photo

उम्मेद देवल

 

 

Advertisements