Tags

, , , , , , ,

होली है

खेलत फाग भरे अनुराग , रचावत रास अनूप बिहारी |

बाजत चंग,मृदंग मनोहर , बांसुरियां धुन पे बलिहारी ||

नाचत भाव विभोर हुई, अति रीझ सुनावत केशव गारी |

गाल गुलाल लगावत मोहन, मारत है सखियाँ पिचकारी ||

photo

उम्मेद देवल

Advertisements