Tags

, , , , , , , ,

%e0%a4%b0%e0%a4%be

मोहन तीर खड़े तनुजा, अति होय अधीर पुकारत राधे |

मो मुरली सुर नाम बिना तुम, ना सधते बहु भॉँतिन साधे ||

कारज एक सरे जग नाहिन, जो हरि साथ न तो अवराधे |

केशव हैं वृषभानु लली बिन, पूरण होकर भी सच आधे ||

photo

उम्मेद देवल

Advertisements