Tags

, , , , , ,

चंचल चितवन चितचोर सखी, आनन आकर्षण आगर है |

गात सुकोमल सुमन सरिस, यौवन मधु आसव गागर है ||

निर्झर नेह ये नयन युगल, और अधर अमिय के धारे हैं |

मतवारे मधुप गण से उड़ते, ये कुंतल प्रिये तुम्हारे  हैं ||

तरु फुनगी,लतिका लज्जित, लंक लचक लखि होती है |

धवल दसन दीप्ति सन्मुख, हीन हीरक,गज-मोती हैं ||

रूप-निधि विधि खूब रची, रसराज है, तूँ रस सागर है |

गात सुकोमल सुमन सरिस, यौवन मधु आसव गागर है ||

मधु-आसव 2

photo

उम्मेद देवल

Advertisements