Tags

, , , , ,

विरह अनल उर सालती, सके न खुलकर रोय |
प्रियतम छवि अँखियन बसी, आँसू दे न भिगोय ||विरहानल

photo

उम्मेद देवल

Advertisements