Tags

, , , , ,

चौहदवीं का चाँद : खूबसूरती के लिए जाना जाता है, सोचा चाँद तो पूनम को पूर्णता प्राप्त करता है फिर चौहदवीं के चाँद की मिसाल क्यों ? मेरा ख्याल आपके समक्ष है कि चवदस को चाँद के उर में उमंग है कि वह कल पूनम को पूर्णता प्राप्त कर लेगा, लेकिन पूनम को यह सोचकर कि कल से मेरी क्षीण होने की दशा प्रारम्भ हो जायेगी यह सोचकर उसके मुख पर मलीनता आ जाती है, अतः चवदस का खिला चाँद ही सच में सुंदर है :-

चवदस अखिल उमंग उर, पूनम वदन मलीन |

क्षीण दशा कल से शुरू, सोच सोम ग़मगीन ||

chaudhvin-ka-chaand-1

photo

उम्मेद देवल

Advertisements