Tags

, , , , , , ,

royal-rajasthani-woman-applying-henna

मुख मनोहर,देह सुघड़, यौवन रूप अपार |

चित चुम्बक विधना दिई,काहे करे सिंगार ||

साजन रीझे, मोद मन , चित में चैन करार |

शोभा द्विगुणित हो सखी ,ताते करूँ सिंगार ||

रति लजावत,चढ़ती वय, अनुपन अंग निखार |

मद सागर तव तन सकल, काहे करे सिंगार ||

तरुणाई  तन  पर सखी , आती  है  इक  बार |

यह दुर्लभ  फिर ना मिले , ताते करूँ सिंगार ||

तन महके जैसे सुमन , खिलती बसंत बहार |

अलि  गुंजन  करते  फिरे , काहे करे सिंगार ||

मुड़  आता   बसंत  सखी, जाकर के हर बार |

रितु  यौवन  लौटे  नहीं , ताते करूँ सिंगार ||

उम्मेद देवल

उम्मेद देवल

Advertisements