Tags

, , , , , ,

wpid-sad-girl-fantasy-hd-wallpaper_edit1

सदियों  से खता  इन होठों की,

दिल ने  सजा हर  बार  सही |

ये  खामोश  रहे  होकर  अपने,

दिल की तो कभी ना बात कही ||

क्यों  किस्मत का रोना  ले बैठें,

क्यों इल्ज़ाम वक़्त के सिर देना |

इनके कारण  ही इन  आँखों से,

अश्कों की  नदी हर  बार बही ||

ख्वाबों पे किसी का ना बस कोई,

और अरमान मचलने खातिर हैं |

इस  दिल ने  सराहा है  तुमको ,

बस कहनी थी इतनी बात यही ||

नैनों की चाहत, अधरों की चुप्पी ,

और  दर्द  बेचारा  दिल सहता |

घुट – घुट  के दीवाने  मरते हैं ,

दिल की लगी जो दिल में रही ||

उम्मेद देवल

उम्मेद देवल

Advertisements