Tags

, , , , , ,

Shivpariwar

नमामि चित्त रंजनं महेश कष्ट भंजनं |

अपार मोद दायकं पिशाच भूत नायकं ||

किशोर चन्द्र भाल है गले भुजंग माल है |

विदेह देह मान हो अरूप रूप वान हो ||1||

भुजंग राज हारकं कपाल गंग धारकं |

मनोज मान जारकं समस्त लोक तारकं ||

प्रणाम नाथ आपको हरो समस्त ताप को |

अनूप कीर्ति आपकी महेश नाम जाप की ||2||

सदा रहो सहायकं समस्त लोक नायकं |

नमो महेश पालकं प्रदात भक्ति बालकं ||

अपार शील वान हो अमोघ देत दान हो |

उमेश आप ही सदा सहाय भक्त सर्वदा ||3|

रमेश ब्रह्म सेवितं मुनीन्द्र देव पूजितं |

करे हंमेश वंदना गणेश शैल नंदना ||

भजे सदा कुमार हैं गणादि बेशुमार हैं |

पुकार कान दीजिए उबार आप लीजिए ||4||

अनंत शोक टालते न लोक शूल सालते |

सदा ज भक्त तारते कराल काल मारते ||

अमोघ नाम ढाल है जहाँ अशक्त काल है |

प्रभो प्रताप पालिए हरेक कष्ट टालिए ||5||

दयालु चित्त धारिए दया करो उबारिए ||

तरे अनेक पातकी अपार कीर्ति आपकी |

उबार नाथ लीजिये दया उमेश कीजिये |

नमामि काम जीत को, रखे पाल प्रीत को ||6||          

करो दया ज दीन हूँ सदैव ही अधीन हूँ |

न और अन्य ठाँव हैं पड़े सदैव पाँव हैं ||

प्रणाम नाथ लीजिए हमेश भक्ति दीजिए |

जपे हमेश नाम को लभे तुहीज धाम को ||7||

प्रणाम भूतनाथ को प्रणाम लोकनाथ को |

नमो नमो मखारि को नमो नमो पुरारि को |

प्रणाम बार बार है उमेद की पुकार है ||

हमेश हाथ माथ हो सदैव नाथ साथ हो ||8||

शेष शारदा अज हरी, यक्ष गणेश अरु देव |

नर गन्धर्व किन्नर मुनि, सदा करे हैं सेव ||

उम्मेद देवल

उम्मेद देवल

Advertisements