Tags

, , , , , ,

11007981_731317043632759_1997788250_n

ज्यादातर तो देखो दुनिया में, चहरे पर चहरे वाले हैं |

होठों पर होता शहद मगर, ये ज़हर दिलों में पाले हैं ||

हँसकर जितना मिलते हैं ये, अन्दर उतना जलते हैं |

बन अपने ये चढ़ते कंधे, पर पीठ में डसने वाले हैं ||

उजली बातें, उजले कपड़े, सब उजले भाव दिखाते हैं |

झाँक जरा दिल देखो इनके, भीतर से दुगने काले हैं ||

शब्दों की पाश बिछाकर के, ये वार प्यार से करते हैं |

भोले भाले जन दुनियाँ के, इनके तो सहज निवाले हैं ||

छल अपनों से करने वाले, ये मीत किसी के क्या होंगे |

धोखे का गर्त खोद कर रखते, पत्ते विश्वास के डाले हैं ||

कुटिल चाल हँसी के पीछे, रखते घात छुपाकर बातों में |

मत फंसना, रहना दूर सम्हलकर ,ये मकड़ी के जाले हैं ||

उम्मेद देवल

उम्मेद देवल

Advertisements