Tags

, , , , , ,

white_mughal_Lady_Painting

आनन ओप उजास अति दमकत, लाजत पूनम चंद की छवियाँ |

बदन मदन रंग साजि वसन सब, रही बांचत प्रेम पगी पंक्तियाँ ||

हास विलास रास रुचिरकर, आनंद, उल्लास भरी प्रियतम बतियाँ |

कर बंकिम चितवन मुस्काय उठी, उर आय गई पिव की सुधियाँ ||

मनभावन आनन ओप अति, शशि, रति रूप लजावनहारी  |

वसंत वसन साजि तन  ऊपर, भाल तिलक दियो मनोहारी ||

उर अनुराग हिलोर उठत अति, रस पोथी बांचत है सुकुमारी |

नैन, अधर उठ दोऊ हँसे हैं, जब प्रियतम याद कियो प्यारी ||

उम्मेद देवल

उम्मेद देवल

Advertisements