Tags

, , , , , , ,

childhood-is-the-most-beautiful-of-all-lifes

सोच, फ़िक्र, ना लाज़, भय कोई, स्वछंद उमंगित जीना है |

बचपन जीवन अमृत है, फिर तो गरल झंझट का पीना है ||

ना स्वार्थ की जंजीरें मन में, ना जीवन की आपा-धापी है,

ना कलह, बैर के बीज हैं इसमें, ना कोई धर्मी, पापी है |

ना वर्ण भेद है, ना ऊँच-नीच, ना कोई धर्म की दीवारें हैं,

प्रेम प्रार्थना, वही इबादत, ना कोई मंदिर है, न मदीना है |

बचपन जीवन अमृत है, फिर तो गरल झंझट का पीना है ||

हँसना, रोना और रूठना, मनाया प्यार से, लो मान गए,

दिल, आँखों की पढ़कर भाषा, स्नेह कितना है जान गए |

जमकर क्रीड़ा, मस्ती करना, खाना और फिर सो जाना है,

ये दिनचर्या ना वापस आनी, आगे तो फटे लबादे सीना है |

बचपन जीवन अमृत है, फिर तो गरल झंझट का पीना है ||

अपने और परायेपन की, ना इसमें दीवार उठानी आती है,

हँसी ,ठिठोली, मस्ती, शैतानी, वही करनी जो मन भाती है |

लहरों सा तरंगित होकर चलना, झूमें पवन के झोंकों जैसे,

हमें मिला जो जीवन धन है, उसका यह अनमोल नगीना है |

बचपन जीवन अमृत है, फिर तो गरल झंझट का पीना है ||

उम्मेद देवल

उम्मेद देवल

Advertisements