Tags

, , , , , ,

2015

यशोदा को नंदन, हर को चन्दन, सीता को कंत लगे प्यारो |

मानव को धीर, गंगाजी रो नीर, अरु निर्मोही संत लगे प्यारो ||

नारी को श्रृंगार, मर्द की ललकार, मृगराज भिडंत लगे प्यारो |

फाग को चंग, प्रीत को रंग, अरु मदमातो बसंत लगे प्यारो ||13||

साथ वही जो घात करे नहीं, हाथ वही जो दीन दुलारे |

बात वही जो आर्त करे नहीं, भ्रात वही जो कारज़ सारे ||

पाँत वही जो भाँत करे नहीं, शाँत वही जो धीरज धारे |

नाथ वही जो अनाथ करे नहीं, जात वही जो प्रेम पसारे ||14||

Ummed Deval

Ummed Deval

Advertisements